Translate

US State Department CoronaVirus Documents बड़ी खबर : मिल गया सबूत! 6 साल से कोरोनावायरस फैलाने की फिराक में था चीन, दुनिया तबाह कर बनना चाहता था बादशाह!!

US State Department CoronaVirus Documents बड़ी खबर : मिल गया सबूत! 6 साल से कोरोनावायरस फैलाने की फिराक में था चीन, दुनिया तबाह कर बनना चाहता था बादशाह!!

US State Department CoronaVirus Documents बड़ी खबर : मिल गया सबूत! 6 साल से कोरोनावायरस फैलाने की फिराक में था चीन, दुनिया तबाह कर बनना चाहता था बादशाह!!

US State Department के हाथ ऐसे डॉक्युमेंट्स (Documents) लगे हैं, जिसमें ये साफ़ लिखा गया है कि चीन की तरफ से तीसरे विश्व युद्ध (3rd World War) की तैयारी चल रही थी. ये युद्ध किसी परमाणु हथियार (Nuclear Weapon) नहीं, बल्कि बायोलॉजिकल (Biological) और जेनेटिक (Genetic) हथियार द्वारा किया जाना था. कोरोनावायरस (CoronaVirus) को इसी युद्ध का हिस्सा बताया जा रहा है.

कोरोनावायरस की वजह से चीन की दुनिया में काफी किरकरी हो चुकी है. हालांकि, इस देश ने अभी तक वायरस को लेकर सही जानकारी विश्व को नहीं दी है. वायरस को फैलाने के लिए जहां चीन वुहान के मीट मार्केट में मिलने वाले चमगादड़ के मांस को जिम्मेदार ठहराता है, वहीं कई देशों का कहना है कि इस वायरस को खुद चीन ने लैब में बनाया था. अब यूएस स्टेट डिपार्टमेंट के हाथ कुछ अहम दस्तावेज लगे हैं. इन पेपर्स में लिखी बातों के अनुसार कोरोनावायरस फैलाना चीन का थर्ड वर्ल्ड वॉर शुरू करने का हिस्सा था. चीन इस वायरस के जरिये दुनिया को तबाह कर अपना एकछत्र राज बनाना चाहता था. इसकी तैयारी उसने 2015 से कर ली थी.

जीत का हथियार था कोरोनावायरस US State Department CoronaVirus Documents

अमेरिकी इन्वेस्टिगेटर्स के हाथ काफी अहम सबूत लगे हैं जो ये साफ कर रहा है कि कोरोनावायरस को चीन ने जानते हुए बनाया और फैलाया. सबूतों के अनुसार 2015 से ही चीन इसकी तैयारी कर रहा था. कई बार इस बात का दावा किया गया था कि कोरोनावायरस को चीन के लैब में बनाया गया है लेकिन ये देश इसे मानने के लिए तैयार नहीं था. अब मिले सबूतों के बाद चीन फिर से दुनिया के निशाने पर आ गया है.

दुनिया तबाह करने का मिशन US State Department CoronaVirus Documents

मिले पेपर्स के अनुसार, चीन एक ऐसा बायोलॉजिकल हथियार तैयार कर रहा था जो दुनिया के ताकतवर देशों के मेडिकल सिस्टम को ध्वस्त कर सकता था. द ऑस्ट्रेलियन में छपी खबर के मुताबिक, चीन एक ऐसा हथियार बना रहा था जिसके बारे में किसी ने कभी सोचा भी ना हो. इसका कोई तोड़ ना हो. डॉक्युमेंट्स में हालांकि, कोरोनावायरस का नाम नहीं लिखा था लेकिन इसमें लिखी बातें इसी की तरफ इशारा कर रही है.

तब सच हो जाएगी बात US State Department CoronaVirus Documents

अगर मिले डॉक्युमेंट्स की बातों को जोड़ें, तो इसमें लिखी हर बार कोरोनावायरस की तरफ इशारा कर रही है. अगर ये सच है तो वाकई चीन ने लैब में ही इस वायरस को तैयार किया था. इस बात के सबूत मिले थे कि चीन के The Wuhan Institute of Virology में 2002 से ही चमगादड़ के सैम्पल जमा किये जा रहे थे. इससे कुछ ऐसे वायरस बनाए गए थे जो इंसानी सेल्स को इफ़ेक्ट कर रहे थे. इसके बाद भी चीन रुका नहीं. कोरोनावायरस बनाकर चीन दुनिया को तबाही के मुंह में धकेल ही दिया.


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ